तिरुवनंतपुरम में गुलाम अली की गज़ल सन्ध्या 003

 15 जनवरी को तिरुवनंतपुरम में निशागंधी प्रेक्षागृह में गज़लों का बादशाह गुलाम अली ने गज़लों के आलापन से नगर निवासियों को रोमांचित किया । उन्होंने लगभग एक घंटे तक 'हम तेरे शहर में आये हैं मुसाफिर की तरह', 'दिल में एक लहर सी उठी है', 'चुपके-चुपके रात दिन' आदि गज़लों को भावुकता पूर्ण शैलि में पेश किया तो नगर निवासियों के लिए अपूर्व आनंत का एहसास हुआ । यहां देश, भाषा, जाति, धर्म सब की सीमारेखाएं समाप्त हुई और एक ही चीज़ बच गयी, बस संगीत ही संगीत । सभी प्रकार की असहिष्णुताएं, रोक, बन्द,विरोध सब संगीत में घुल गये । ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेयता मलयालम के प्रिय कवि श्री.ओ.एन.वी.कुरुप्प ने कहा कि यह भविष्य भारत की ऐतिहासिक घड़ी है ।  गुलाम अली ने कहा कि यह प्यार कभी भूला नहीं सकता ।
 सात प्रमुख व्यक्तियों ने सात वाद्य उपकरण देकर गज़लों के बादशाह का भव्य स्वागत किया । ओ.एन.वी के अलावा तिरुवनंतपुरम के महापौर वी.के.प्रशान्त, अडूर गोपालकृष्णन, मंत्री ए.पी.अनिल कुमार, पूर्व मंत्री एम.ए बेबी आदि सात व्यक्तियों ने मिलकर दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का उद्घटन किया । पुत्र अमीर गुलाम अली ने तबले पर उनको सहयोग दिया । कभी दोनों मिलकर गाये भी थे ।
 स्वर लय और ग्रैंड शोप्पिंग फेस्टिवल निदेशालय ने मिलकर यह कार्यक्रम आयोजित किया था ।  उन्होंने कार्यक्रम का नाम दिया था – 'सलाम गुलाम अली' ।
 बाहर, शिवसेना ने इसका बड़ा विरोध किया था अत: पुलीस की बड़ी सुरक्षा में कार्यक्रम आयोजित किया गया था ।
केरलांचल ब्यूरो ।

गुलाम अली का कोषिक्कोड में भव्य स्वागत

002
कोषिक्कोड में 17 जनवरी को गुलाम अली ने पुत्र के साथ गज़ल पेश किये । प्रेम, अनुराग, वियोग और ऑसुओं के भाव भीनी गज़ल । यहां भी 'हम तेरे शहर में आये मुसाफिर की तरह', 'दिल में एक लहर सी उठी, कोई ताज़ा हवा चली है अभी, चुपके-चुपके रात-दिन', 'कल चौदहवीं रात' आदि और अंत में 'यह दिल यह पागल दिल मेरा' आलाप कर उन्होंने 'चांदनी रात' नामक इस गज़ल सन्ध्या को कोषिक्कोड नगर निवासियों के लिए एक अपूर्व आनंद का अनुभव प्रदान किया । ज्ञानपीठ विजेयता मलयालम के महान कथा-लेखक एम.टी.वासुदेवन नायर ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का भव्य उद्घाटन किया था ।
-केरलांचल ब्यूरो.

 

 

WWW.KERALANCHAL.COM

banner
KERALANCHALFONT

केरलाञ्चल

नया कदम , नई पहल ; एक लघु, विनम्र  प्रयास।

 

kera1
mapfin
keralaMAL

हिन्दी भाषा तथा साहित्य केलिए समर्पित एक संपूर्ण हिन्दी वेब पत्रिका

07/03/16 00:24:09 

 

Last updated on

सहसंपादक की कलम से

 

Rotating_globe

संपादकीय

 

'केरलाञ्चल' एक बिलकुल ही नई वेब पत्रिका है ।  हिन्दी के प्रचार प्रसार और प्रयोग के क्षेत्र में बिलकुल ही नयी पत्रिका ।  हिन्दी के प्रचार, प्रसार और प्रयोग के क्षेत्र में भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय के तहत अखिल भारतीय हिन्दी संस्था संघ, दिल्ली के अधीन ही कई स्वैच्छिक हिन्दी संस्थाएं कार्यरत हैं ।  भारत सरकार की राजभाषा नीति के कार्यान्वयन के लिए अधिनियम बनाये गये है और उसके तहत देश भर में कर्मचारियों और साधारण नागरिकों में भी कार्यसाधक ज्ञान या हिन्दी के प्रति रुचि पैदा करने या बढाने के उद्देश्य से विविध कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं । हर साल सितंबर  महीने में चौदह तारीख को देश-भर की हिन्दी संस्थओं,  केंद्र सरकारी आगे पढ़ें

 

सूचना प्रौद्योगिकी के इस नये युग में हमारी ओर से एक लघु विनम्र प्रयास 'केरलाञ्चल' नाम से एक वेब पत्रिका के रूप में यहाँ प्रस्तुत है।  आज इंटरनेट के माध्यम से कंप्यूटर में ही नहीं मोबईल फोनों में भी दुनिया के किसी भी कोने में बैठकर अपनी जान-पहचान की भाषा में खबरें पढ़ सकते हैं।  प्रादुर्भाव के समय वेब पत्रकारिता (सायबर जर्नलिज़म) कुछ अंग्रेज़ी साइटों तक सीमित रहा। लेकिन पिछले पच्चीस-तीस वर्षों के अन्तराल में निकले हिन्दी वेबसाइटों की भरमार देखकर इस क्षेत्र में हुए विकास और लोकप्रियता हम समझ सकते हैं। हिन्दी यूनिकोड का विकास हिन्दी वेब पत्रकारिता का मील पत्थर आगे पढ़ें

Free Global Counter